क्राइम पर रोक लगाने और क्रिमिनल्स पर खास तौर से नजर रखने के लिए जगह-जगह कैमरे और सीसीटीवी लगाए जा रहे हैं।  दुकानों से लेकर मकानों तक में होने वाले अपराधों को इसके जरिए रोकने की कोशिश की जा रही है। लेकिन फिर भी ऐसी कई जगहें हैं जहां क्राइम करने वालों के साथ ही सीधे-सादे लोग भी फंस जाते हैं। आए दिन लेडीज टॉयलेट से लेकर लेडीज ट्रॉयल रूम तक में स्पाई कैमरे होनेे की खबरें मिल रही हैं जिससे जाने-अन्जाने में महिलाओं की क्लिपिंग्स और एमएमएस बना कर बाद में उन्हें ब्लैकमेल किया जाता है। 

अगर आप भी वाशरूम से लेकर ट्रॉयल रूम तक जाने में हिडन कैमरे के बारे में सोचते रहते हैं तो अब टेंशन लेने की जरूरत नहीं। एक एप की मदद से आप पता लगा सकते हैं कि आपके आस-पास कोई हिडन कैमरा तो नहीं। बस इसके लिए जरूरी है आपके स्मार्टफोन मेंं एक एप होना चाहिए। एंड्रॉयड फोन इस्तेमाल करने वाले ‘हिडन कैमरा डिटेक्टर’ नाम के इस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। वहीं आईफोन यूजर्स को आइट्यून्स से हिडन कैमरा डिटेक्टर डाउनलोड करना होगा। हालांकि इसके लिए इन्हें करीब $4.99 मतलब साढ़े तीन सौ रुपए खर्च करने पड़ेंगे।

स्क्रीन पर दिखेगा लाल निशान

इस एप को एक्टिवेट रखने पर ये छिपे कैमरे के रेडिएशन को पकड़ लेगा। इसके लिए आप जिस भी जगह हैं, वहां पर अपने स्मार्टफोन को साथ लेकर थोड़ा घूम लीजिए। अगर कैमरा है तो मोबाइल स्क्रीन पर एक लाल रंग का निशान दिखाई देने लगेगा। अगर आपको छिपा हुआ कैमरा मिलता है तो आप उस पर टेप या कोई कपड़ा लगा सकते हैं और तुरंत पुलिस को सूचित करें क्यूंकि आप ऐसा करके दुसरों के साथ भविष्य में ऐसा न हो यह सुनिश्चित कर सकते हैं।